Breaking

Email Alert

..

Tuesday, May 1, 2018

धारा विद्युत्











                                      धारा विद्युत् 


धारा :जब  किसी  आवेश  कण  को  विद्युत्  एरिया  में  रखा  जाता  है  तो  उस  पर  एक  बल  कार्य  करता  है  जिसकी  दिशा  धन  आवेश  के  लिए  एरिया  के  अनुदिस  तथा  ऋण  आवेश  के  लिए  एरिया  के  विपरीत  होती  है 


मुक्त  इलेक्ट्रान  का अनुगमन  वेग :एक  चालक  में  स्वतंत्र  एल्कट्रोन  ठीक  उसी  ही  तरह  का  व्यहवार  करते  है  जिस  प्रकार की  किसी  पात्र   में  गैस  के  अणु
                                 ये  एलेक्ट्रोन  चालक  के अंदर २ अनियमित  गति  करते हुए ेस्थिर  धन आयनो  से बार बार  टकराता  है  जब एक चालक  के सिरों के बीच विवान्तर  आरोपित   किया जाता है तो इलेक्ट्रान एरिया के विपरीत  दिशा में एक बल का अनुभव  करते है  ये धातु आयनो  से बार बार टकराता  है और  प्रत्येक टकरो    में इनकी ऊर्जा लगातार   खर्च होती रहती  है

विद्युतीय  प्रतिरोध :जब किसी चालक के सिरों के बीच V  विवान्तर  आरोपित  किया जाता है तथा  उस में i  धरा  प्रवहित  होती है तो विवान्तर  एबं  प्रवहित  धारा  की  निष्पति को उस  चालक का प्रतिरोध  R कहा जाता है

                                                 R=V/i

यदि विवान्तर  V को वोल्ट में तथा धारा i को एम्पियर  में मापा जाये तो

                        R=वोल्ट /एम्पियर =ओम 

अतः प्रतिरोध की इकाई  M.K.S पद्दिथि  में ओम होती है  प्रतिरोध का मात्रक  एबं  विमाए  सूत्र

                                         ओम =वोल्ट /एम्पियर

                                          =(जूल /कुलाम )/एम्पियर 

                             =न्यू टन ⤫मी /एम्पियर /से./एम्पीयर 





विद्युत्  चालकता :  किसी चालक के प्रतिरोध का वुयत्क्रम  विद्युत् चालकता  कहलाता है  इसे C द्वारा  दर्शाता है 

                                                  C=1/R


विशिष्ट(specific ) चालकता : किसी  चालकता की विशिष्ट प्रतिरोध  का वियुत्क्रम  विशिष्ट चालकता  कहलाता  है  इसे σ द्वारा दर्शाते है 

                                                     σ=1/ ρ

इसका मात्रक  ओम ←¹ मीटर ←¹  इसका विमीय  सूत्र  [ M→¹  L→³  T³A²]





किरचॉफ  का नियम : किरचॉफ  विद्युत् धारा  से  सबंधित  दो नियम  दिए

प्रथम नियम (किरचॉफ का धारा का नियम ): किसी विद्युत् परिपथ की किसी भी संधि पर मिलने वाली  समस्त विद्युत्  धाराओं  का बिजगणतीये योग  0  होता है

1.चिन्ह परिपाठी : संधि की  ओर  आने वाली सभी विद्युत् धाराओं  क धानतमक  लेते है और संधि से दूर जाने वाली विद्युत् धाराओं को ऋणात्मक  लेते है

2.किरचॉफ के धारा  के नियम की व्याख्या   : किरचॉफ का धारा  का नियम आवेश  संरछण  का नियम के अनुकूल  है 



I₁  और   I₂ संधि  की ओर  आने वाली धराये  है  उन्हें  धानतमक  लेते है  I₃ , I₄ तथा    I₅ संधि से दूर जाने वाली धराये  है उन्हें ऋणात्मक  लेते है

                                           I₁+I₂+I₃+I₄+I₅=0

                                        ∑I=0

दुतीये  नियम (किरचॉफ का  वोल्टेज का नियम ): किसी  विद्युत् परिपथ  के किसी  बंद जाल  के विभिन्न  भागों  में प्रवाहित  होने वाली विदुत  धाराओं  और उनके  संगत  प्रतिरोध  के गुणनफलो  का बीजगणितए  योग उस  जाल  में उपस्थित  समस्त  विदुत  वाहक  बलों  के बिजगणतीये  योग के बराबर  होता है

                                                    ∑ IR= ∑E

चिन्ह परिपाठी : धारा  की दिशा में चलने पर IR  को धनात्मक  लेते है और  धारा  की विपरीत  दिशा में IR   को ऋणात्मक  लेते है 
यदि  सेल के अन्दर  धन  से ऋण  सिर  की तरफ  चलने  तब विदुत  वाहक  बल E को ऋणात्मक लेते है और यदि ऋण से धन सिरे की तरफ चलते है तब E धनात्मक लेते है

किरचॉफ के धारा  के नियम की व्याख्या :





No comments:

Post a Comment

,

Blog Archive

SEO Score

Seo Score für tech24bit.blogspot.com

Followers