Breaking

Email Alert

..

Saturday, May 5, 2018

फैराडे के विदुत चुंबकीय प्रेरण के नियम

                फैराडे  के विदुत  चुंबकीय  प्रेरण  के नियम 



फैराडे ने अपने प्रयोगो के आधार पर विदुत  चुंबकीय  प्रेरण  संबंधी दो नियम  प्रतिपादित  किये जिहने  फैराडे के विदुत  चुंबकीय  प्रेरण  की नियम कहते है 

प्रथम नियम 
जब  कभी किसी परिपथ से  संलग्न  चुंबकीय  फ्लक्स में  परिवर्तन  होता है तो उस  परिपथ में एक प्रेरित  विदुत  वाहक  बल उत्पन्न  हो जाता है  इसका अस्तित्व  केवल  उस समय  तक रहता है जब तक संलग्न चुंबकीय  फ्लक्स में परिवर्तन होता रहता है 

दुतीय नियम 
प्रेरित  विदुत  वाहक की बल  का मान  चुंबकीय  फ्लक्स के परिवर्तन  की दर के समानुपाती होता है यह नियम प्रेरित विदुत  वाहक बल के परिमाण  को व्यक्त करता है जबकि पहला नियम प्रेरित विदुत  वाहक बल के उतपन्न  होने की शर्तो को व्यक्त करता है 


यदि  ∆t समय  में किसी परिपथ से सम्बद्ध  चुंबकीय  फ्लक्स में ∆∅ का परिवर्तन होता है तो -

                 दूतीये  नियम के अनुसार [परिपथ में उत्पन्न  प्रेरित विदुत २ वाहक बल 


       


                e∝∆∅/∆t


               e= - k×∆∅/∆t



          नियतांक  k का मान 1   होता है अतः 

         e=-∆∅/∆t
                                                                           



No comments:

Post a Comment

,

Blog Archive

SEO Score

Seo Score für tech24bit.blogspot.com

Followers